Police Patrika

पुलिस पत्रिका /  न्यूज़ चैनल की टीआरपी में सबसे आगे रहना वाला चैनल रिपब्लिक भारत जिसने हमेशा लोगो को सिर्फ सच दिखाया उन्हें उसी सच को दिखाने की सजा मिल रही है। जी हाँ , हाल ही में रिपब्लिक न्यूज़ चैनल के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी को मुंबई में उनके घर से गिरफ्तार किया गया है और उनकी गिरफ़्तारीका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल भी हो रहा है।

 

आपको बता दे की वीडियो के वायरल होते ही कई पत्रकारों का सोशल मीडिया पर गुस्सा भी देखने को मिला है साथ ही महाराष्ट्र सरकार पर भी कई सवाल उठाए जा रहे है। पहला सवाल आखिर मुंबई पुलिस बिना किसी वारंट के पत्रकार अर्नब गोस्वामी को कैसे गिरफ्तारी कर सकती है? आखिर क्यों अचानक से महाराष्ट्र पुलिस ने 2018 में हुए इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक के सुसाइड की फाइल को दोबारा खोलने के बारे में सोचा ?

 

अर्नब गोस्वामी की गिरफ़्तारी के पीछे यह है असल वजह

आज रिपब्लिक चैनल बहुत कम समय में भारत का नंबर 1 न्यूज़ चैनल बन गया है क्योंकि वो हर खबर की सच्चाई तक जाता है साथ ही उसे दिखाता भी है शायद यही वजह है कि सच बोलने और एक पत्रकार होने की सजा आज अर्नब गोस्वामी को दी जा रही है।

 

जाने क्या है मामला जिसके चलते बिना किसी वारंट के किया गया है अर्नब गोस्वामी को गिरफ्तार ?

दरअसल, मुंबई के एक 53 वर्षीय इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक ने अपने सुसाइड नोट में तीन लोगों का नाम दिया था. 5 मई 2018 को नाइक और उसकी मां ने खुद की जिंदगी खत्म कर ली थी. वहीं जिन तीन लोगों का नाम सुसाइड नोट में था उनमें अर्नब गोस्वामी का नाम भी शामिल था. इसके अलावा फिरोज शेख और नीतीश सारडा का नाम था। इंटीरियर डिजाइनर की कॉनकॉर्ड कंपनी ने रिपब्लिक टीवी के गोस्वामी, iCastx के फिरोज शेख और स्मार्टवर्क के नीतीश सारडा के लिए काम किया था.

Leave Your Message

Don’t worry ! Your email address will not be published. Required fields are marked (*).

Stay Connected

Get Newsletter

Featured News

Advertisement

भारतीय सेना

भारतीय पुलिस

अपराध

व्यापार

विशेष

राशिफल

संपादक